Long Moral Stories In Hindi || हिन्दी में नैतिक शिक्षापर्द कहानिया

Long Moral Stories In Hindi

Long Moral Stories In Hindi ,

एक बार एक नदी पार करने के लिए कई लोग एक नाव में बैठे धीरे-धीरे वह बहुत सवारियों को लेकर

सामने वाले किनारे की ओर बढ़ रही थी| चांस की बात है उसी दिन उस नाव में शहर के पढ़े लिखे लेकिन

थोड़े से प्राऊडी प्रोफेसर साहब नाव पर बैठे हुए थे |उन प्रोफेसर साहब की आदत थी कि चार लोग जहां देखी

नहीं की बस उनको होता था कि कैसे मैं अपनी नॉलेज का शो ऑफ करूँ और इस बार उन्होंने पकड़ लिया

उस बेचारे सीधे-साधे नाविक  को |उन्हें अंदर ही अंदर पता था कि वह उनके सवालों का जवाब नहीं दे पाएगा |

क्योंकि बेचारा पढ़ा लिखा नहीं था लेकिन फिर भी बाकी सब लोगों के सामने उन प्रोफेसर साहब ने अपनी ड़िंगे

जो हाकनी थी |तो उन्होंने उस नाविक  से पूछा क्या तुमने भूगोल पढी है भोला भाला नाविक ने पूछा भूगोल क्या है

बाबूजी ? इसका तो मुझे कुछ नहीं पता | तब प्रोफेसर साहब बोलते हैं | Long Moral Stories In Hindi 

तब तो तुम्हारी पाव भर जिंदगी गई पानी में तब उससे दूसरा सवाल करते हैं क्या इतिहास वगैरह कुछ पढा है

महारानी लक्ष्मी बाई कब और कहां हुई |उन्होंने कैसे लड़ाई लड़ी इसके बारे में कुछ जानते हो कि नहीं ,

बेचारा नाविक इशारे – इशारे में प्रोफेसर साहब से कहा मुझे नहीं पता बस  प्रोफेसर साहब फूलकर गुब्बारा हो गए |

और कहते हैं अब  तो तुम्हारी आधी जिंदगी गई पानी में |

अपने नॉलेज के गुरुर में प्रोफेसर साहब ने सोच लिया था कि आज सबके सामने अच्छी तरह से शर्मसार करना है |

इस पर उन्होंने तीसरा सवाल पूछ लिया रामायण का पाठ तो घर में सुना होगा, तो यही बता दो केवट

और श्री राम के बीच में Long Moral Stories In Hindi 

Long Moral Stories In Hindi || प्रेणादायक कहानियाँ

क्या संवाद हुआ था यह सुनने के बाद भी नाविक एकदम शांत रहा और उसने फिर से प्रोफेसर

साहब के सामने सर हिला दिया| Long Moral Stories In Hindi 

प्रोफेसर साहब मुझे नहीं मालूम इस पर प्रोफेसर साहब स्माइल करते हुए कहते हैं तब तो

तुम्हारी पौनी जिंदगी पानी में गई

प्रोफेसर साहब ने यह कहा नहीं की अचानक से नदी का बहाव तेज होने लगा और वोट मैंन ने  सभी को

आगाह  कर दिया की हो सकता है यह बोर्ड पानी में डूब जाए उसने प्रोफेसर साहब से पूछा नाव पानी में डूब  सकती है Long Moral Stories In Hindi 

क्या आपको तैरना आता है | इस पर वह प्रोफेसर घबराहट में बोले क्या बात करते हो ?

मुझे कोई तैरना वैरना नहीं आता  हालात को देखते  हुए कहा तब तो समझो आपकी पूरी जिंदगी गई पानी में |

कहानी 2   एक आदमी और तितली 

Long Moral Stories In Hindi

एक  समय की बात है एक आदमी कहीं काम से बाहर जा रहा था| और रास्ते में उसने एक तितली को देखा

जो अभी अपने अंडे से बाहर निकलने की कोशिश कर रही थी |उस छोटे से छेद से

बाहर निकलने के लिए तितली का बच्चा बहुत मेहनत  कर रही थी |लेकिन कुछ टाइम बाद

ऐसा लगने लगा कि वह तितली  अंडे  के उस छोटे से छेद में फस जाएगी वहां बैठे उस

आदमी को तितली पर बहुत दया आई उसने सोचा कि मैं इसकी

मदद करूंगा उसने कैंची  ली और अंडे के उस छोटे से छेद को बड़ा कर दिया जिससे कि वह तितली आसानी

से बाहर आ गई अंडे  से तितली के बाहर निकलने के बाद उस इंसान ने देखा कि उसका पूरा शरीर फुला  हुआ है |

और पंख सूखे हुए हैं उसने सोचा थोड़ी देर इंतजार करता हूं जब तितली अपनी पंख फैलायेगी तब उसे उड़ने मे मदद

करूंगा लेकिन पता है ऐसा कुछ नहीं हुआ | वह तितली थोड़े समय बाद मर गयी |

सोच तो उस दयालु इंसान की अच्छी थी | Long Moral Stories In Hindi 

की उस तितली की मदद कर रहा है लेकिन हुआ क्या मदद के बदले उस तितली के साथ

बहुत बुरा हुआ शायद अंडे से बाहर निकले के लिए जो तितली को जो मेहनत  करनी चाहिए थी

वही उसके लिए सबसे जरूरी थी अपनी जिंदगी में उड़ान करने के

लिए |पर नहीं मदद के रूप में कहीं कहीं हम लोग भी गलत कर जाते हैं अपने खाश लोगों के साथ  |

कहानी 3

एक राजा और सुंदर महल और चिड़िया 

Long Moral Stories In Hindi

एक राजा के बहुत बड़े से महल में एक सुंदर सा बगीचा था |जिसमें अंगूरों के एक बेल  लगी हुई थी

वहां रोज एक चिड़िया आती  और मीठे मीठे अंगूर चुन चुन कर खा जाती |और अधपके  और

खट्टे  अंगूरों को नीचे गिरा देती उस बगीचे के

मालिक ने चिड़िया को पकड़ने की बहुत कोशिश की पर वह हाथ ही नहीं आती थी |

एक दिन एकदम हार के माली ने राजा को ये बात बताई राजा को बड़ी हैरानी हुई

उसने चिड़िया को सबक सिखाने की ठानली  और बगीचे में छिपकर

बैठ गया जब रोज की तरह चिड़िया अंगूर खाने आइ तो राजा ने फुर्ती से उसे पकड़ लिया |

फिर क्या था जब  राजा चिड़िया को मारने  लगा तो चिड़िया ने कहा हे राजन मुझे मत मारो मैं

आपको ज्ञान की चार  बहुत जरूरी बातें बताऊंगी | Long Moral Stories In Hindi 

राजा ने कहा ठीक है जल्दी बताओ चिड़िया बोली है राजन सबसे पहले तो हाथ में

आए शत्रु को कभी मत छोड़ो राजा ने कहा ठीक है दूसरी बात चिड़िया ने कहा असंभव बात को

भूलकर भी विश्वास मत करो और तीसरी बात यह की बीती बातों पर

कभी भी पश्चाताप मत करो राजा ने कहा अब चौथी  बात भी जल्दी से बता दे |

इस पर वह चिड़िया बोली चौथी बात बहुत

गुंड रहस्यमयी है मुझे जरा ढीला  छोड़ दो क्योंकि मेरा दम बहुत घुट  रहा है |

कुछ सांस लेकर ही बता  सकूंगी चिड़िया की बात सुनकर जैसे  ही  राजा ने अपना हाथ ढीला

किया चिड़िया उड़कर एक डाल पर बैठ गई और बोली  मेरे पेट में दो हीरे हैं |

Long Moral Stories In Hindi 

यह सुनकर राजा पश्चात में  डूब गया राजा की हालत देखकर चिड़िया बोली हे 

राजन ज्ञान की  बात  सुनने और पढ़ने से कुछ 

Long Moral Stories In Hindi || जबरदस्त हिन्दी कहानियाँ

फायदा नहीं होता उस पर अमल करने से होता है |आपने मेरी बात सिर्फ सुनी  मानी नहीं मैं आपकी शत्रु थी

फिर भी आपने मुझे पकड़ कर छोड़ दिया मैंने यह असंभव बात कही कि मेरे पेट में दो हीरे हैं

फिर भी आपने उस पर भरोसा कर लिया |

आपके हाथ में वह काल्पनिक हिरे  नहीं आए तो आप अफसोस करने लग गए  |

Long Moral Stories In Hindi

झूठ का दिखावा ||Long Moral Stories In Hindi ( कहानी  4)

Long Moral Stories In Hindi

मैनेजमेंट की एजुकेशन लिए एक यंगस्टर की बहुत अच्छी नौकरी लग जाती है |

उसे कंपनी की तरफ से काम करने के लिए अलग से एक  केबिन दिया जाता है |

Long Moral Stories In Hindi

वह  यंगस्टर जो पहले दिन ऑफिस आता है और बैठकर अपनी शानदार केबिन को

देख रहा होता है तभी दरवाजा खटखटाने की आवाज आती है दरवाजे पर सिंपल सा इंसान ,

पर उसे अंदर आने के लिए कहने के  बजाय उसे आधा घंटा बाहर इंतजार करने के लिए कहता है |

आधा घंटा बीत जाने के बाद वह आदमी फिर से अंदर आने के पर्मिशन मांगता है |

और उसे अंदर आते देख  वह इंसान फोन पर बात करना शुरू हो जाता है वह फोन पर बहुत सारे

पैसों की बातें करता है  कई ढेर सारे  ड़िंगे  हाँकता  है|

सामने वाला व्यक्ति उसकी सारी बातें सुन रहा होता है पर वह यंगस्टर फोन पर बड़ी-बड़ी

ड़िंगे हाँकते ही जा रहा है  |

ज्ञानवर्धक कहानी || Long Moral Stories In Hindi

उसकी बातें खत्म ही नहीं हो रही थी | फाइनली जब उसकी बातें खत्म हुई  तो उस साधारण

व्यक्ति से वह पूछता है ?तुम यहाँ  क्या करने आए हो, इस पर वह इंसान कहता है मुझे ऊपर

आईटी डिपार्मेंट ने  कहा कि जो केबिन आपको दिया गया है उसका फोन पिछले एक हफ्ते से

बंद पड़ा है इसलिए मैं इस फोन को रिपेयर करने आया हूं | इतना सुनते ही  यंगस्टर शर्म से लाल

हो जाता है| और चुपचाप कमरे  से बाहर चला जाता है |उसे उसके दिखावे का फल मिल चुका

होता है – इसीलिए कहा जाता है कि किसी भी इंसान को फालतू का

दिखावा नहीं करना चाहिए | Long Moral Stories In Hindi 

Moral Stories In Hindi For Class 5

समस्याओं का सामना कैसे करें (कहानी 5)

एक बार एक लड़का एक प्राइवेट कंपनी में काम करता था | वह अपनी जिंदगी से खुश नहीं था

और हर प्रॉब्लम से परेशान रहता था और उसी के बारे में सोचता रहता था सोचता रहता था |

एक बार की बात है शहर से थोड़ी दूर पर एक महात्मा जी का काफिला रुका  जब उस लड़के

को पता लगा तो वह भी उनके दर्शन के लिए वहां पहुंच गया | महात्मा जी के पास बहुत सारे लोग थे

अपनी-अपनी परेशानी लेकर आए हुए थे जब उस लड़के का नंबर आया तो उसने कहा महात्मा जी

मैं अपनी जिंदगी से बहुत दुखी हूं क्या आप मुझे कोई ऐसा सॉल्यूशन कुछ ऐसा उपाय बता सकते हैं ,

जिससे कि मेरी सारी परेशानियां दूर हो जाए वह महात्मा जी मुस्कुराए और उन्होंने कहा बेटा आज तो

बहुत देर हो गई है मैं तुम्हारे सारे सवालों का उत्तर कल   दूंगा लेकिन तुम मेरा एक छोटा सा काम करोगे

हमारे काफिले में लगभग 100  ऊँट हैं |Long Moral Stories In Hindi 

नैतिक कहानियां

समस्या से जूझने की कहानी  || Long Moral Stories In Hindi

ऊंटों की देखभाल करने वाला बीमार है | मैं चाहता हूं कि तुम ऊँटो  की देखभाल करो जब सभी ऊंट

बैठ जाएँ तब तुम सो जाना इतना कहकर महात्मा जी अपने कमरे में चले गए दिन हुआ तो महात्मा जी ने

उस लड़के से पूछा बेटा क्या तुम्हें अच्छी नींद नहीं आई उस लड़के ने कहा आपको पता है मैं एक पल के

लिए भी सो नहीं सका मैं उन सभी ऊँटो  को बिठाने की पूरी कोशिश की लेकिन कोई ना कोई ऊंट   

खड़ा हो जाता था | महात्मा जी बोले मैं जनता था यही होगा और आज तक कभी ऐसा नहीं हुआ कि

यह सारे ऊंट  एक साथ बैठ जाए वह लड़का बड़ा नाराज हुआ उसने कहा जब आपको पता था तो

आपने ऐसा करने के लिए क्यों कहा तब उस महात्मा जी ने कहा देखो तुम्हारी यही समस्या थी ना कि

मुझे अपनी सारी की सारी प्रॉब्लम्स का सॉल्यूशन मिल जाए लेकिन ऐसा होता नहीं है तुम एक प्रॉब्लम

को सॉल्व करोगे तो दूसरी प्रॉब्लम आ जाएगी दूसरी प्रॉब्लम को सॉल्व करोगे तो तीसरी प्रॉब्लम आ जाएगी

और यह आती है कभी ज्यादा तो कभी कम इसीलिए इन प्रॉब्लम्स का सामना करते हुए जिंदगी का

बस मजा लो कहने  का मतलब प्रॉब्लम हमेशा हमारी जिंदगी में हमारे साथ ही रहती है 

और उनके बारे में दिन रात सोचते रहने से यह कम तो नहीं हो जाती न बल्कि और ज्यादा बढ़ जाती है |

इसीलिए हर समय खुशी से जीना चाहिए |Long Moral Stories In Hindi 

Leave a Comment