दिल छू देने वाली सैड शायरी : Sad Shayari In Hindi For Life

Sad Shayari In Hindi For Life

Sad Shayari In Hindi For Life

शूल पत्थर आग बन  पानी न बन,

वक्त की आवाज सुन ज्ञानी न बन |

अब फकत तारिखिया ही शेष हैं, 

रहम खा इंसान पर दानी न बन ||

जिंदगी माना कोई हासिल नहीं,

पर इसे अगवा न कर  नाजी ना बन  |

धर्म के मालिक बहुत हैं चारसू,

तू कर्म का अध्याय बन गाजी ना बन ||

Sad Shayari In Hindi For Life

कब तक चलेगी जीस्त  नंगे पांव ,

कब तक चलेगी जीस्त नंगे पांव |

मौत को सिजिदा ना कर फानी न बन ,

जिंदगी एक अधूरा गीत सी लगती है मुझको

यु है की टीम टिमाता दीप सी लगती है मुझको ||

जिंदगी एक अधूरा गीत सी लगती है मुझको,

यु  है की टीम टिमाता दीप् सी लगती है मुझको |

या यूँ कहूँ कि मैयत पे  उभरे दोस्ती जिनकी ,

या यूँ कहूँ कि मैयत पे  उभरे दोस्ती जिनकी |

अजीब सुन सरीखे लगती है मुझको 

 अजीब सुन सरीखे लगती है मुझको

मंच को पकड़े अकेले गीत गाता ही रहा

हार  कर भी मैं निरंतर जीत पाता  ही रहा

मैंने कभी भी लौटकर उत्तर नहीं दिया मैं हारा किया

Sad Shayari In Hindi For Life

लेकिन नाता तो नाता ही रहा |वो ना आये  घर मेरे तो क्या हुआ

लेकिन जनाब  मैं तो उनके घर की ओर  रोज जाता ही रहा |

मैंने सोचा भी ना था यूं हादसे होंगे,

Moral Kahani 

यहाँ पर हौंसला इतना रहा मैं राह पाता ही रहा |

तेज भी क्या खूब है कि वक्त पर भारी पड़ा,

मर मर के भी उबा रहा जीस्त पाता ही रहा |

मर मर के भी उबा रहा जीस्त पाता ही रहा ,

आज मेरा मन कुछ अनमना सा है

क्या कहूँ सब कुछ कहा सुना सा है ,

वायदा उनका गरीबी दूर करने का ,

एक पुराना  राजनीतिक झुन -झुना सा है

Sad Shayari In Hindi For Life

कोशिशे कल भी थी है आज भी ,

लेकिन मसला मगर वह आज भी अनसुना सा है |

चलते रहो चलने से रुकना है गलत

रुकने को बोलता है जो मनचला सा है ||

इसे भी देख लेंगे कल है हौंसला इतना ,

इसे भी देख लेंगे कल है हौंसला इतना |

तेज  जिन्दा है सो कुछ रत जगा सा है ,

तेज जिन्दा है सो कुछ रत जगा सा है |

Sad Shayari In Hindi For Life

मौसम में कुछ बदलाव है पैगाम लिख भेजो ,

पाती कोई हमगमजदों के नाम लिख भेजो |

यूं तो सबे फ़िराक में गुजरी तमाम उम्र,

तकदीर में मेरी भी कोई रात लिख भेजो ||

है उठ गया यु तो ज़माने से सकून,

कुछ तो होगा आदमी का दाम लिख भेजो |

Sad Shayari In Hindi For Life

यह रास्ता दर रास्ता मंजिल परस्त है  ,

कुछ तो सरफरोश का अंजाम लिख भेजो

जब से गए हो पुरअसर  तबीयत नहीं खिली , 

जब से गए हो पुरअसर  तबीयत नहीं खिली

अब तो हवा के रास्ते मुस्कान लिख भेजो ,

अब तो हवा के रास्ते मुस्कान लिख भेजो |

कफज टूटे गगन बिचरो तो कुछ – कुछ हो ,

अबला पा बजी घुघरू तो कुछ – कुछ हो ||

अमावस्या की रातों में जो बन जुगनू ,

कभी तो कू कभी निखरुं तो कुछ – कुछ हो |

पतझड़ के बियाबां में सरसों सा,

Sad Shayari In Hindi For Life

फलु फुलूं  सवरू तो कुछ – कुछ हो ||

बैसाखी दुपहरी में मैं बन बादल.

कभी गरजू कभी बरसू तो कुछ – कुछ हो |

तेज की क्या मेरी सोचो मैं बन मजनू ,

इश्क के नाम से गुजरू तो कुछ – कुछ हो ||

की जो हमने बाहबाही देर तक लड़ता रहा,

एकला सिपाही देर तक लड़ता रहा  |

जिसका जितना जीता वहीँ हमने यूँ दी थी,

गवाही देर तक ओ अपने वायदे से टल गए ||

Sad Shayari

पर दोस्ती हमने निभाई देर तक ,

ओ की अपने बात पर ही,

जब कहें हमने यु दी थी सफाई देर तक |

तेज की वो उम्र चुकता हो गई,

तेज की ओ उम्र चुकता हो गई,

उसने मगर बैठक जमाई देर तक,

उसने मगर बैठक जमाई देर तक |

मगरूर ही सही मगर वह आदमी सा है,

चेहरे का रंग उसके कुछ चांदनी सा है

हमको तो  हर एक काम में आती है हिचकियां,

पर उनके जीने का हुनर कुछ रागिनी सा है |

Sad Shayari In Hindi For Life

हम हैं कि हम पनपा किये पतझड़ की छांव में,

उनका हर मौसम मगर कुछ फागुनी सा है ||

ना बात में दम है ना हाथ ही में दम,

तेवर मगर हम राह का कुछ दामिनी सा है ,

मुझको तो राह बर पर सब गुजारता है,

मुझको तो राह बर पर सब गुजरता है |

Sad Shayari In Hindi For Life

अंदाज उसकी बातों का रहजनी सा है,

कुछ अंदाज़ उसकी बात का कुछ रहजनी सा है ||

हमें तो जिद्द है करीब आने की,

तुम खबर लो  ना लो  गरीब खाने की |

बड़ी-बड़ी बातें तो होती है,

बहुत हालत कहां बदली मगर जमाने की |

बे वजे अब ना रुला तू मुझको ,

छोड़ भी दे जिद्द मुझको आजमाने की

ऐसे ऐसे बिछड़े की अब उम्मीद नहीं ऐसे बिछड़ जाने  की |

Sad Shayari In Hindi For Life

अब उम्मीद नहीं किसी भी मोड़  उनके लौट आने की ||

यूं तो मुद्दत हुई छोड़े हुए शराब ,

यूँ तो मुद्दत हुई छोड़े हुए शराब ,

पर आदत सी हो गई है बहेक जाने की ,

पर आदत सी हो गई है बहेक जाने की

क्या पूछी हो किस्मत मेरी रात धवल दिन काले है,

अंतर अंतर काला काला चेहरे भोले भाले है

 Zindagi Shayari In Hindi

कब तक गुंडागर्दी होगी राजनीति के दंगल में,

एक दिन झंडा फहराएंगे जिनके छीने निवाले हैं |

जनता के दुश्मन या कब तक अपना राज चलाएंगे,

जनता के दुश्मन या कब तक अपना राज चलाएंगे |

उनके उन्मूलन के अभियान सपने सबने पाले हैं ||

Sad Shayari In Hindi For Life

बोलो कौन करेगा कब तक रोजी रोटी की हत्या,

बोलो कौन करेगा कब तक रोजी रोटी की हत्या

नव की जाने अब हमने पत्थर बहुत उछाले हैं ,

आज तेज की हालत यारों माना खासी खस्ता है

आज तेज की हालत यारो माना खासी खस्ता है ,

वरना तो उसने पतझड़ में बासन तीर झारे है

वरना तो उसने पतझड़ बासन तीर झारे हैं

जिंदगी से अब मैं विदा चाहता हूं ,

यूँ जानिए  की अब मैं मरा चाहता हूँ |

चलते-चलते न जाने कहां खो गया ,

अब थोड़ी बहुत मै धरा चाहता हूँ

क्या-क्या किया मैंने क्या कुछ नहीं ,

अब उसी जुर्म की मैं सजा चाहता हूं

है बचपन का मुझको पता कुछ नहीं,

बचपन का कुछ कुछ पता चाहता हूं ||

उल्टा सीधा बहुत हो लिया आज तक,

उल्टा सीधा बहुत हो लिया आज तक

अब सौदा में कोई खरा चाहता हूँ ,

अब सौदा मैं  कोई खरा चाहता हूँ |

आड़ी तिरछी खड़ी लकीर,

कुछ औंधे मुंह पड़ी लकीर जैसी भी है ||

रहने भी दो दिलों में खींचो मत लकीर,

सुई धागा मांग रहा है |

भूखा नंगा एक फकीर, लाल चुनरिया लाल लकीर,

फिर  क्यों गोरी भई अधीर 

भाल – भाल पर तेज खिची  है भाल -भाल पर तेज खिची है |

गूंगी बहरी थकी लकीर गूंगी बहरी थकी मैं  घर ही में हार गया ||

हर लम्हा लाचार गया लाख लगायें तरकीबे ,बहुत हर बारी बीमार गया |

फटी जेब खाली थैला घर  से में बाजार गया आने वाला नहीं आया ||

Sad Shayari In Hindi For Life

यूँ ही करा धरा बेकार गया

तेज भला करता भी क्या तेज भला करता भी क्या,

खुद ही खुद से हार गया खुद ही खुद से हार गया |

आमदनी कुछ होना हो खर्चा तो है भूख मरो का शहर में चर्चा तो है

वो आदमी हो  ना हो लेकिन उसका बस्तियों की भीड़ में दर्जा तो है

माना की सत्ता  मेरे संग साथ नहीं हो ना हो लेकिन मेरी प्रजा तो है

जो थाम लेता है मुझे एतबार में ओ शक्स मेरे जहेम में उतरा तो है

तेज को इंसान चुकता हो गया, तेज को इंसान चुकता हो गया

पर हँसने हँसाने के लिए बच्चा तो है, पर हंसने हँसाने के लिए बच्चा तो है

Sad Shayari In Hindi For Life

मौत आती है चली जाती है कभी रोती है कभी गाती है मौत का रूप अजब है यारा

कभी ठगनी तो कभी साथी है ना मैं अपना ना वो अपनी हवा सी आती है चली जाती है

मौत रंगीन सही हसीं सही कहा किसको ये राज आती है तेज दिल की बात क्या करना ,

तेज दिल की बात क्या करना कहा मांगे से मौत आती , कहा मांगे से मौत आती

Sad Shayari In Hindi For Life

Leave a Comment